महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों से लड़ने और उनकी सुरक्षा के बेहतर इंतज़ाम करने के लिए दिल्ली सरकार अब आम लोगों से सुझाव माँग रही है | आम-आदमी पार्टी की सरकार ने एक विज्ञापन के ज़रिए लोगों से सुझाव माँगें हैं | विज्ञापन में मासूम बच्चियों के साथ बढ़ते जघन्य अपराधों और बलात्कार की घटनाओं का हवाला दिया गया है |

इन अपराधों से लड़ने के लिए दिल्ली सरकार ने एक मंत्रिमंड़लीय समूह का गठन किया है | विज्ञापन के ज़रिए कुछ मुख़्य बातों पर सलाह माँगी गई है जैसे बलात्कारियों को कम से कम ‘आजीवन कारावास’ या फ़ाँसी हो और नाबालिग अपराधियों को बाल-अपराधी मानने की उम्र १८ वर्ष से घटाकर १५ वर्ष की जाये या नहीं | इसके अलावा महिला सुरक्षा और कार्यवाही की प्रक्रिया में तेज़ी लाने पर भी विचार कर सलाह माँगी गई है | कोई भी अपना सुझाव ७ नवंबर २०१५ तक दिल्ली सरकार के पते या ई-मेल आईडी पर दे सकता है | दरअसल सरकार हरकत में तब आई जब एक ही दिन में दो मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म की दर्दनाक ख़बरें आईं | आम-आदमी पार्टी ने महिला सुरक्षा को अपनी नीतियों में प्राथमिकता देने का वादा किया था जिससे दिल्ली अब भी दूर है | आम-आदमी पार्टी भी राजनीति के आरोप-प्रत्यारोप में ही फँस कर रह गई है |

Advertisements